टायफाइड (आंतरिक ज्वर) क्यों होता है –
आंतरिक ज्वर (टायफाइड ) के जीवाणु किसी रोगी व्यक्ति से या दूषित जल व खाद्य-पदार्थों के साथ मिलकर स्वस्थ व्यक्तियों तक पहुंचकर उन्हें रोगी बनाते हैं. विशेषकर किशोर और युवा वर्ग इस रोग से पीडित होता है. जीवाणु शरीर में पहुंचकर आंत्रों मेँ बिषक्रमण करके आंत्रिक ज्वर की उत्पत्ति करते हैं. जीवाणुओं के विषक्रमण से आंत्रों मे जख्म बन जाते हैं. ऐसी स्थिति मे रोगो के मल के साथ रक्तस्राव भी होने लगता है अतिसार की अवस्था मे रोगी को अधिक हानि होने की संभावना रहती है.

आंन्निक ज्वर दो-तीन सप्ताह की अवधि मेँ नष्ट हो जाता है, लेकिन ऐसी स्थिति में रोगी की उचित चिकित्सा होनी चाहिए आंन्निक ज्वर के चलते धोडी सी लापरवाही से रोगी की स्थिति अधिक खराब हो सकती है. रोगी मृत्यु का शिकार भी बन सकता है आंत्रिक ज्वर के चलते प्रारंभ में शरीर के बिभिन्न अंगों में पीडा, सिर-दर्द, कोष्ठबदृद्गत्ता की विकृति, बेचैनी और ज्वर के कम-ज्यादा होने के लक्षण दिखाई देते हैं बिस्तर पर अधिक समय तक लेटे रहने से कमर मेँ दर्द भी होने लगता है रोगी को रात को नींद नही आती है.

1. मुनक्का को बीच से चीरकर उसमें काला नमक लगाकर, हत्का सा सेंककर खाने से बहुत लाभ होता है. आधुनिक वैज्ञानिकों के अनुसार मुनक्का से अग्रेत्रिक ज्वर के जीवाणु भी नष्ट होते हैं अधिक मात्रा में मुनक्का नहीं खिलाए, क्योकि अधिक मुनक्का खाने से अतिसार हो सकता है.

2. गिलोय का रस 5 ग्राम थोड़े-से मधु के साथ मिलाकर चटाने से टायफाइड मे बहुत लाभ होता है. गिलोय का काड़ा भी मधु मिलाकर पिला सकते हैं. अजमोद का चूर्ण 3 ग्राम मधु के साथ सुबह-शाम चाटने से रोग में बहुत लाभ होता है.

3. मुनक्का, वासा, हरड़ 3-3 ग्राम मात्रा मे लेकर 300 ग्राम जल मे काड़ा बनाकर उसमे मधु और मिसरी मिलाकर रोगी को पिलाने से आंत्रिक ज्वर मे लाभ होता है.

4. काली तुलसी, बन तुलसी और पोदीना 3-3 ग्राम मात्रा मे रस निकालकर रोगी को 3 ग्राम मात्रा दिन मेँ दो-तीन बार पिलाने से लाभ होता है.

1. बवासीर की जड़ 7 दिन काटकर फेंके ये घरेलु उपाये, जाने इसके कारण और निवारण – Click Here

2. एसिडिटी ( अजीर्ण रोग ) अब होगा जड़ से खत्म, इसके कारण और निवारण – Click Here

3. पैर की दूसरी ऊँगली के बड़े होने का असली मतलब, 99% लोग नहीं जानते हैं – Click Here

5. टायफाइड होने पर रोगी के सिर पर ‘मृगराज तेल की पट्टियाँ रखकर तथा ठंडे जल की थैली रखने से बेचैनी और उष्णता नष्ट होती है.

6. घीये (लौकी) के टुकडों को तलुओं पर मलने से टायफाइड की उष्णता कम होती है.

7. तीव्र ज्वर के कारण मूच्छी होने पर अदरक और लहसुन का रस 2-2 ग्राम मिलाकर एक-एक बूंद नाक में डालकर छान ले उस छने हुए जल को थोड़ा-थोड़ा पिलाने से प्यास नष्ट होती है.

8. आंत्रिक ज्वर होने पर तेल जुलाब देने से रोगी को हानि पहुंच सकती है इसलिए तीन-चार मुनक्का दूध मे उबालकर दूध पिलाने से मलावरोध सरलता से नष्ट होता है.

9. सरसों के तेल मेँ सेधा नमक मिलाकर वक्षस्थल पर मलने से कफ स्नरलता से निकल जाता है.

10. सितोपलादि चूर्ण 3 ग्राम मधु मिलाकर चाटने से खांसी का प्रकोप शांत होता है.

11. रोगी को मूंग की दाल बनाकर देने से लाभ होता है, लेकिन दाल को घी के साथ छोककर नहीं दें मिर्च का उपयोग भी न करें.

12. रुद्राक्ष के एक नग को जल के साथ घिसकर, चित्रक की छाल का चूर्ण 1 ग्राम मिलाकर सेवन करने से टायफाइड में दाने जल्दी निक्ल जाते हैं.

अगर दोस्तों आपको हमारा ये आर्टिकल और दी गई जानकारी पसंद आई हो और आगे भी इसी प्रकार की जानकारी पाने के लिए वेल आइकॉन पर क्लिक करके हमे सब्सक्राइब करे.धन्यवाद…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here